Book Reviews

1984 और एनिमल फार्म, लेनिनवादी मूक बधिर समाज का नमूना

जॉर्ज ऑर्वेल की दो महत्वपूर्ण पुस्तकें हैं- Animal farm तथा 1984. Animal farm को तो मैंने बहुत पहले पढ़ा था, लेकिन 1984 को अभी जल्दी ही समाप्त किया हूँ। यह किताब 1949 में प्रकाशित हुई थी, और Time magazine ने अंग्रेजी भाषा की 1923 से 2005 तक 100 बेहतरीन किताबों में शामिल किया था। इस पुस्तक और Arthur Koestler की Darkness At Noon चरित्र और प्लॉट को लेकर काफी समानता है। Koestler की पुस्तक में एक सीनियर कम्युनिस्ट को वहाँ की सरकार द्वारा गिरफ्तार कर लिया जाता है, और फिर उसका trial होता है। Interrogation और trial scene दिल दहलाने वाला है। Trial के बाद गिरफ्तार रुबाशोव को गोली मारी जाती है।

1984: अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता से रहित भयभीत समाज

1984 एक तानाशाही सरकार पर कटाक्ष है। उपरोक्त दोनों ही उपन्यासों में यह लगता है कि यह सोवियत तानाशाही से प्रेरित है। 1984 का मुख्य पात्र विंस्टन स्मिथ है तथा राज्य का नाम ओशिनिया है। इसके समकालीन दो अन्य राज्य यूरोसिया तथा इस्टासिआ हैं। ये तीनों राज्य जानते हैं क़ि कोई दो मिलकर तीसरे को नहीं हरा सकते, फिर भी ओशिनिया कभी एक से संधि करके दूसरे को शत्रु घोषित करता है और कभी दूसरे से संधि करके पहले को शत्रु घोषित करता है। बहरहाल हर हाल में कोई न कोई बाहरी शत्रु होता है, और सबसे बड़ा शत्रु तो गोल्ड स्टेन है जो ट्राटस्की से मिलता जुलता है। राज्य के चीफ को Big brother कहा जाता है और प्रत्येक नागरिक को लगातार यह बताया जाता है क़ि Big Brother is Watching.

1984 big brother is watching you

राज्य में मुख्य रूप से तीन वर्ग हैं। पहला Inner Party है जिसकी जनसंख्या 2% है और यह शासन करने वाला कुलीन वर्ग है, दूसरा Outer Party या मध्यम वर्ग है, जिसकी जनसंख्या 13% है और शेष 85% सर्वहारा का है। राज्य का कार्यभार चार मंत्रालयों द्वारा संभाला जाता है- शांति (Peace), सत्य (Truth), अधिकता (Plenty) तथा प्यार (Love) जिनके कार्य क्रमशः युद्ध (War), झूठ (Lies), दरिद्रता (Starvation) यातना (Torture) हैं, अर्थात जिस नाम से मंत्रालय संबंधित हैं उसके विपरीत कार्य करने हैं। स्मिथ आउटर पार्टी का सदस्य है और वह Ministry of Truth के रिकॉर्ड विभाग में कार्यरत है।

पूरे राज्य में सर्वहारा वर्ग को छोड़ कर अन्य सभी के कमरों, कार्यस्थलों तथा सार्वजनिक स्थलों पर टेलिस्क्रीन लगा हुआ है जिससे प्रत्येक व्यक्ति की हर पल निगरानी की जाती है। टेलिस्क्रीन से प्रतिदिन काल्पनिक शत्रु के विरुद्ध घृणा कार्यक्रम होता है, तथा समय समय पर घृणा सप्ताह का भी आयोजन होता है, जिनमें सभी नागरिकों को पूरे उत्साह से भाग लेना अनिवार्य है। दुर्भाग्य से एक दिन स्मिथ अपनी डायरी में पार्टी के विरुद्ध कुछ लिखता और टेलिस्क्रीन पर उसकी यह हरकत पकड़ में आ जाती है, फिर तो उसके बुरे दिन की शुरुआत हो जाती है। इसी बीच उसे जूलिया नाम की महिला से प्रेम हो जाता है और दोनों सर्वहारा वर्ग की कॉलोनी में मिलने के लिये एक कमरा किराए पर लेते हैं, क्योंकि उन्हें विश्वास होता है कि इस कमरे में कोई टेलिस्क्रीन नहीं है। ओ ब्रिएन जो इनर पार्टी का सदस्य है स्मिथ को विश्वास में लेकर यह बताता है कि राज्य में Big Brother को अपदस्थ करने के लिए Brotherhood नाम का संगठन कार्यरत है और वह स्वयं उसका सदस्य है। ब्रिएन उसे गोल्ड स्टीन की किताब पढ़ने को देता है। बाद में पता चलता है कि जिससे स्मिथ और जूलिया ने कमरा किराये पर लिया है वह Thought Police का एजेंट है और उस कमरे में भी टेलिस्क्रीन लगा हुआ है।

उपन्यास 1984 में कुछ शब्द ऐसे हैं जिन्हें जानना आवश्यक है, जैसे- -Thought Crime, Thought Police, Double Think, 2+2=5 आदि। यदि कोई विचार से भी पार्टी/राज्य का विरोध करता है तो उसे Thought Crime कहा जाता है, जिसे नियंत्रित करने के लिये Thought Police बनाया गया। यही नहीं, वच्चों को भी उत्साहित किया जाता है कि वे अपने माँ बाप पर निगाह रखें कि कहीं उनके द्वारा Thought Crime तो नहीं किया जा रहा है। पुस्तक में एक पात्र Tom Parson सोते में पार्टी के विरुद्ध कुछ बुदबुदाता और उसकी लड़की इस Thought Crime की रिपोर्ट करती है और इस कारण उसे अरेस्ट करके लेबर कैंप में भेज दिया जाता है। एक कवि Ample Fresh को इसलिए गिरफ्तार किया जाता है कि एक कविता में rod की लय God से करता है, और गॉड शब्द इस्तेमाल करना एक अपराध है। Ministry of Truth में एक शब्दकोश का भी निर्माण किया जा रहा है जिसे Newspeak नाम दिया गया है। Syme इस काम को बखूबी अंजाम दे रहा है, परन्तु उसका अपराध यह है कि वह बहुत बुद्धिमान है और स्पष्टवादी है।इसी स्वभाव के चलते वह कह देता है कि Newspeak का काम 2050 तक पूरा हो जायेगा। पार्टी को यह स्पष्टवादिता पसंद नहीं है और उसे भी Ministry of Love के हवाले कर दिया जाता है।

1984 lenin

Ministry of truth का मुख्य कार्य समय समय पर रिकॉर्ड में संशोधन करना होता है। पार्टी मानती है कि क्रांति के पूर्व कुछ नहीं था। क्रांति के बाद ही इतिहास शुरू हुआ है। यदि Eurasia से युद्व चल रहा है तो रिकॉर्ड में यह दर्ज़ किया जाता की Eurasia शुरू से ही शत्रु रहा है और उसके मित्र होने के रिकॉर्ड को जला कर memory hole में डाल दिया जाता,और तथ्यों का पुनर्लेखन होता। पार्टी का मानना था कि इतिहास कोई स्थायी तथ्य नहीं है, बल्कि जरूरत के हिसाब से इसे बदला जा सकता है। खैर, स्मिथ को तमाम यातनाओं से गुजरना पड़ता है और अंत में कमरा नंबर 101 की यातना भोगने के पश्चात big brother भय मिश्रित प्यार करना शुरू कर देता है और तब जाके उसकी जिंदगी तथाकथित रूप से सामान्य हो पाती है।

उपन्यास 1984 को पढ़ने के पश्चात गोर्की को लिखे अपने पत्रों में लेनिन का मत याद आता है। लेनिन के अनुसार, “समाजवादी सर्वहारा लेखन किसी व्यक्ति का मामला नहीं है। सर्वहारा वर्ग के उद्देश्य से स्वतंत्र होकर कुछ भी नहीं लिखा जा सकता। गैर पार्टी लेखन मुर्दावाद।” अतः लेनिन के अनुसार वे सभी लेखक गैर जवाबदेह हैं जो कम्युनिस्ट पार्टी और उसकी सत्ता की एक एक बात को देवी आदेश मान कर नहीं चलते। ऐसे लेखक या बुद्धिजीवी से निपटने के लिये लेनिन ने बड़ा सीधा और अनोखा तरीका अपनाया। यह तरीका था, लेखक के प्रति भरपूर गाली गलौज़, मनमाने आरोप और निष्कर्ष निकाल कर उसे धमकाना और किसी न किसी प्रकार उसे चुप कराना। उदाहरण के लिए, यदि किसी लेखक ने लोगों को अकारण मारने, सताने की आलोचना की तो लेनिनीय शैली में इसका मतलब हुआ कि वह लेखक साम्राज्यवादी युद्ध का दुष्टतापूर्ण, घृणित और सड़ा हुआ समर्थन कर रहा है। यदि किसी के जेल में बंद किये जाने का विरोध किया गया तो इसका अर्थ निकला कि विरोध करने वाला हज़ारों मज़दूरों और किसानों के नरसंहार का समर्थन करने वाला है। वह पूंजीपतियों का ज़र खरीद गुलाम है। यह वैचारिक संवाद या विचार विमर्श की भाषा नहीं, धौंसपट्टी और जबरदस्ती की भाषा है, लेकिन दुर्भाग्य से यह लेनिनवाद का एक अविच्छन्न अंग है

 – शिवपूजन त्रिपाठीलेखक भारतीय इतिहास एवं संस्कृति के गहन जानकर एवं अध्येता हैं

यह भी पढ़ें,

कम्युनिस्ट विचारधारा के अंधविश्वास

एक मुस्लिम कभी वामपंथी क्यों नहीं हो सकता?

मार्क्सवादी विचारधारा की भारत के इतिहास और वर्तमान से गद्दारी

स्टालिन- जिसकी प्रोपेगेंडा मशीन ने रूस में दो करोड़ हत्याएं कीं

जब एक कम्युनिस्ट ने कहा, “लोगों को खून का स्वाद लेने दो”!

नास्तिवादी – इतिहास के अपराधों को अस्वीकार करने वाले अपराधी

इस्लामिक कट्टरवाद की चपेट से जिन्ना और इक़बाल भी नहीं बचेंगे.

प्रखर हिन्दू विचारक थे नोबेल पुरस्कार विजेता विद्याधर नायपॉल

1 Comment

"A small group of individuals motivated by the same ideological ethics endeavouring to present that side of discourse which is deliberately denied to give space by mainstream media."

Copyright © 2018 The Analyst. Designed & Developed by Databox

To Top