close

Mudit Mittal

Adi-shankaracharya-with-his-disciples
HinduismIndology

क्या आदि शंकराचार्य प्रच्छन्न बौद्ध हैं?

महामहिम आद्यगुरू भगवान शंकराचार्य जी के अद्वैतवाद में कई ऐसी अवधारणायें हैं जो बौद्ध दर्शन के महायानी संप्रदायों माध्यमिक शून्यवाद तथा योगाचार विज्ञानवाद से मिलती-जुलती हैं। यही कारण है कि विभिन्न दर्शनों के कई आचार्यों
read more
HinduismHistoryIndology

सिविल सर्विसेज़ परीक्षा में भारत के इतिहास बोध की गला घोंटकर हत्या का कुचक्र

shivaji
कुछ समय पहले मैंने RAS (प्रशासनिक सेवा) की तैयारी के लिए एक कोचिंग में सम्पर्क किया था। कल परसों उनका
HinduismIndology

कौन थे धर्मसम्राट करपात्री जी महाराज? जानिए 8 पंक्तियों में

karpatri
कुछ बुद्धिमान जन भगवान हरि(विष्णु) का भजन करते हैं, और कुछ दूसरे संसार तापहारी हर(शंकर) की सेवा करते हैं। किन्तु
HinduismIndologyScience

आधुनिक विज्ञान से भी सिद्ध है पितर श्राद्ध की वैज्ञानिकता

science_behind_shraaddh
मरने के बाद यह मृतात्मा कहाँ जाती है? इसका विवरण सामवेद के ताण्ड्यमहाब्राह्मण के छान्दोग्य उपनिषद में विस्तार से मिलता
romharshan
HinduismIndology

जब सूत जाति के रोमहर्षण और उग्रश्रवा ब्राह्मण बन गए

पुराणों की गाथा, भाग-3 ब्रेकिंग इंडिया पावर्स को भारत को तोड़ने के लिए हिन्दू संस्कृति पर प्रहार करती हैं, आखिर हिन्दू संस्कृति ही भारतीय संस्कृति है। उसी षड्यंत्र का हिस्सा है मध्यकाल में उपजे जातिवाद
read more
Hinduism

श्री राम का सत्य सर्वप्रिय धर्म स्वरूप..

FB_IMG_1437763922248
यदि वेदव्यास, आद्य शंकराचार्य, स्वामी दयानन्द आदि वेदज्ञ ऋषि ज्ञान की किसी परोक्ष संस्कृति के किनारे हैं, यदि भगवान श्रीकृष्णचन्द्र
Hinduism

प्रश्नोपनिषद के गुरु और शिष्य की अनकही बातें

RISHI-MANDLI
प्रश्नोपनिषद का प्रारम्भ इस प्रकार होता है कि सुकेशा, शिविकुमार, सत्यकाम, सौर्यायणि, कौसल्य, भार्गव और कबन्धी, यह ब्रह्मनिष्ठ ऋषि परब्रह्म
1 2 3 4
Page 3 of 4