close
Current Affairs

इस्लामिक आतंकियों ने चंदन के बाद फिर की हिन्दू युवा अंकित की हत्या

    ankit saxena

    भारत में इस्लामी आतंकियों द्वारा हिन्दू युवकों की हत्या के मामले बढ़ते जा रहे हैं| कुछ ही दिनों पूर्व कासगंज में गणतन्त्र दिवस के दिन तिरंगा फहरा रहे हिन्दू युवक चंदन गुप्ता की सलीम नाम के इस्लामिक आतंकी द्वारा गोली मारकर नृशंस हत्या कर दी गयी थी| उसके बाद 1 फरवरी को दिल्ली में 23 वर्षीय युवक अंकित सक्सेना की मुस्लिम आतंकियों ने चाकू से गला काटकर हत्या करदी|

    अंकित सक्सेना एक फोटोग्राफर और बॉडीबिल्डर था| वह मॉडलिंग भी करता था और आई.पी.एस. बनना चाहता था| वह और शहजादी नाम की एक मुस्लिम लडकी आपस में प्रेम करते थे| वे शादी भी करना चाहते थे| पर लड़की के जिहादी घरवाले इससे नाखुश थे| 1 फरवरी की रात लड़की का बाप, चाचा, माँ और भाई अंकित के घर पहुंचे और उससे मारपीट चालू करदी| अंकित की माँ बीच बचाव करती रही पर शहजादी की माँ ने अंकित की माँ के सीने पर प्रहार करके उन्हें गिरा दिया| इसी बिच अंकित ने पुलिस स्टेशन जाकर मामला सुलझाने की भी बात की, पर शरीयत को ही कानून मानने वाला जिहादी मुस्लिम परिवार इसपर राजी नहीं हुआ| इसी बीच लड़की के भाई, माँ और चाचा ने अंकित के हाथ पैर पकड़कर उसे उठा लिया और लड़की के बाप ने अंकित के गले पर धारदार चाक़ू से अंधाधुंध वार किये और उसका गला काटकर हत्या करदी| जब हमलावर खुखरी से गला काट रहा था, उस समय वह बेबस होकर जोर जोर से चिल्ला रहा था। आतंकियों ने उसका मुंह दबा दिया, जिससे उसकी आवाज न निकले सके। सभी का कहना है कि अंकित सरल स्वभाव का था। दूसरों की हमेशा मदद करता था। आतंकियों ने बड़ी दरिंदगी से हत्या की, वह रोंगटे खड़े करने वाली है।

    हत्या करके आतंकी फरार हो गये| अंकित की माँ और पिता ने भागकर अंकित को उठाया, अंकित की माँ गले पर चुन्नी बांधकर खून रोकने का प्रयास करती रही, पर पुलिस और एम्बुलेंस आने में बहुत देर हो चुकी थी| माँ कमलेश और यशपाल सक्सेना का इकलौता चिराग भी गुप्ता परिवार के इकलौते चिराग चंदन गुप्ता की तरह इस्लामिक आतंक की भेंट चढ़ गया|

    युवक लड़की के बाप और चाचा से कह रहा था कि आप सब पुलिस थाने चलकर निपटारा करते हैं। लेकिन आतंकियों ने उसकी एक नहीं सुनी और युवक की गर्दन पर छुरे से वार कर दिया। अंकित की हत्या सुनियोजित तरीके से अंजाम दी गई। अगर ऐसा नहीं होता तो फिर लड़की का पिता अपने साथ धारदार छुरा लेकर क्यों आता? यही नहीं, चारों आतंकी युवक से लड़ाई करते हुए उसे धक्का देते हुए सड़क के एक कोने में ले गए थे। जहां सीसीटीवी कैमरे नहीं लगे थे। उन्हें पहले से ही पता था कि वहां कैमरे नहीं लगे हैं। इसके बाद उसकी हत्या कर दी गई। लड़की की माँ ने अंकित की माँ को भी बहुत बेदर्दी से मारा, उनके पेट में काफी चोटें आई|

    सामान्य हिन्दू परिवार का हंसता खेलता युवक अंकित

    इस्लामिक आतंक की इस निर्मम घटना पर दिल्ली के विधायक कपिल मिश्रा ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के लचर रवैये पर सवाल उठाए हैं,

    युवक की प्रेमिका शहजादी ने स्वीकार किया है कि उसके घरवालों ने ही अंकित की गला रेंतकर हत्या की है, शहजादी ने अपने चाचा से अपनी हत्या का भी डर बताया इसलिए पुलिस द्वारा उसे सुरक्षा प्रदान की गयी है|

    दुर्भाग्य है कि अख़लाक़, पहलू और गौरी लंकेश की मौत पर जार जार रोने वाला और हिन्दुओं का नाम लेकर उन्हें आतंकी साबित करने वाला जिहादी मीडिया अब मुसलमानों का नाम न लिखकर उन्हें सम्प्रदाय विशेष लिखकर भ्रम फैला रहा है| मीडिया का यह हिंदुविरोधी दोगला रवैया हिन्दुओं की बार बार जान ले रहा है| इसी मीडिया ने शंभुनाथ रैगर के मामले में आसमान सर पर उठाकर भगवा आतंक को सिद्ध करने में एड़ी चोटी का जोर लगा दिया था, पर अब इनके मुंह में दही जमा है और ये क्रिकेट का जश्न मनाने में मशगूल हैं| इस्लामिक आतंकवाद का जब तक खुलकर विरोध नहीं किया जैगम हिन्दुओं के बच्चे इसी प्रकार अपनी जान खोते रहेंगे|

    Tags : Hindihinduhonor killingIslamjihadmurder
      Mudit Mittal

      The author Mudit Mittal

      Loading...