क्या सौरव गांगुली बन सकते हैं बंगाल के मुख्यमंत्री !

47

2000 में कप्तान के रूप में भारतीय क्रिकेट टीम की बागडोर संभालने वाले गांगुली को कई चीजों की शुरुआत करने का श्रेय दिया जाता है । टीम के खेलने के तरीके में प्रतिमान बदलाव लाने से लेकर टीम में अपने पसंदीदा खिलाड़ियों को पूरी तरह से समर्थन देने के लिए, टीम  में आक्रामकता पैदा करने के लिए  उन्होंने अभूतपूर्व कार्य किये जो बाद में अपने आप में किंवदंती बन गए।  उन्होंने जिन युवाओं को समर्थन दिया, उनमें वीरेंद्र सहवाग, युवराज  सिंह आदि की टिप्पणियों से समझा जा सकता है युवराज ने एक बार प्रसिद्ध बयान दिया था “उनके जैसे कप्तान के लिए मैदान पर कोई भी मर सकता है।” सौरव ने  सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़, वीवीएस लक्ष्मण और अनिल कुंबले  और श्रीनाथ जैसे वरिष्ठ खिलाड़ियों का भी सही नेतृत्व किया। टीम चयन हो या क्रिकेट बोर्ड से जुड़े मुद्दे, उनके शब्द हमेशा प्रबल रहे। समय के साथ सौरव गांगुली की व्यक्तिगत आभा और ब्रांड में भी काफी विस्तार हुआ। अपने राज्य, पश्चिम बंगाल में, उन्होंने लगभग एक ईश्वर-जैसा विज्ञापन प्राप्त किया, जो आज तक कायम है।

अपनी सेवानिवृत्ति के बाद भी, गांगुली ने अपनी  महत्वाकांक्षा नहीं खोई। वे क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ बंगाल (सीएबी) के अध्यक्ष बने और दो कार्यकाल भी निभाए। फिर, अक्टूबर 2019 में, उन्हें बीसीसीआई का अध्यक्ष चुना गया। वह 65 साल में बीसीसीआई का प्रमुख बनने वाले पहले भारतीय क्रिकेटर हैं।

तब से बहुत चर्चा हो रही है कि गांगुली  खुद को केंद्र में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के साथ सम्बन्ध प्रगाढ़ किये हैं। उन्हें अक्सर गृह मंत्री अमित शाह के बेटे बीसीसीआई सचिव जय शाह के साथ  मित्रवत  देखा जाता है। गांगुली ने कभी भी सार्वजनिक रूप से भाजपा  के साथ अपनी निकटता से इनकार नहीं किया है, लेकिन उन्होंने अपनी संबद्धता के लिए भी  खुले तौर पर स्वीकार नहीं किया है।

बंगाल चुनाव के साथ ही कोने में और भाजपा ने तृणमूल कांग्रेस और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को टक्कर देने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी, यह अनुमान लगाया जाता है कि गांगुली को जल्द ही भगवा पार्टी में शामिल किया जा सकता है।अमित शाह ने पहले ही स्पष्ट कर दिया है कि अगर भाजपा सत्ता में आती है, तो मुख्यमंत्री ‘धरतीपुत्र’ (मिट्टी के पुत्र) होगा । इस तथ्य को देखते हुए कि गांगुली को अभी भी सबसे उज्ज्वल ‘बंगाल आइकन’ के रूप में माना  जाता है, यह व्यवस्था दोनों पक्षों को अच्छी तरह से सूट कर सकती है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here